Archives

द्यूत

रात को जुआ
दिन में पूजापाठ
पवित्र माह
©आरती परीख ११.८.२०१८

Advertisements

મનોવૃત્તિ

ઠેલાતી રહી
દુઃખ ઘૂંટી ઘૂંટીને
સુખની ઘડી
©આરતી પરીખ ૨૯.૭.૨૦૧૮

जज्बात

अपनों के पास जज्बात बयाँ करनेकी गुस्ताखी कि,
घरकी चार दिवारों के बीच भी सैलाब उमड़ पड़ा।
©आरती परीख २६.७.२०१८

ઋતુઓ

ઓરડે શીત(AC)
ધાબે બેઠું ચોમાસું
હ્રદયે ગ્રીષ્મ
©આરતી પરીખ ૨૫.૭.૨૦૧૮

यह हिन्दुस्तान है मेरी जान

दो वक्तकी रोटी कमाना मुश्किल लगा,
घरसंसार चलाना नामुमकिन लगा,
घरबार छोड़ दिया..
आठ दस साल गुजर गए..
अब वो,
आलीशान बँगले में रहता है,
लिमोजीन गाड़ी में घुमता है,
आये दिन…
संमेलन मुशायरा करता है,
सारे जहाँ को….

उपदेश देता रहता है,
योगकी बातें भी समजाता है,
.
.
.
.
योगी बाबा जो बन बैठा है!
©आरती परीख १८.७.२०१८

જીવંતતા

એક
તીરછી નજર
ત્રિકોણી
જિંદગીનું
મધ્યબિંદુ
બની
જીવંતતા બક્ષે!
©આરતી પરીખ

જુઠાણું

રોજબરોજ
સૌથી વધારે
બોલાતું
ને
સંભળાતું
જુઠાણું…..

.
.
.
.
.
.
“મજામાં છું.”
©આરતી પરીખ ૬.૭.૨૦૧૮