Archives

गझल

ओंस की बूंदें

लिख गई गझल

तृण तृण में

© आरती परीख २२.११.२०१७


Advertisements