Archive | August 4, 2019

स्वप्न

दो जवां दिल
चश्में नम चमके
ख्वाब सजाये
©आरती परीख ४.८.२०१९

चश्म = आँख
नम = भीगी हुई