ख्वाहिश

ख्वाहिश का क्या है?!
अपने घर की ही
फसल है।
.
.
एक बोई
न पूरी हुई..
.
कोई गल नहीं।
.
आज रात फिर
नये ख्वाब सजेंगे..
एक और नयी ख्वाहिश के साथ
खुशनुमा सुबह का लुत्फ उठायेंगे।
©आरती परीख २९.१०.२०१८

Advertisements

One thought on “ख्वाहिश

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s