Archive | August 29, 2017

महफ़िल-ए-नज़र

​सनम हरजाई नज़रों से ऐसा जाम पीला गये,

हमारै अंगअंग में पगली प्रित अगन जला गये।

~~

नज़र से नज़र क्या मिली; आग लगा दी,

नज़रें टकराती रही; दिल जलता रहा!

~~

नज़रें टकराई, इजाज़त मिल गई,

प्यार समझा था, इबादत बन गई!

~~

नज़रों से बात करना  कब सीखेगें हमारे सनम?!

सारी दुनिया ईशारा समझ गई, वो अभी भी नासमझ! 

~~

क़त्ल कर दी हमने; अनगिनत लफ़्ज़ों की,


तब जाकर नज़रों के जाम का नशा चढ़ा!

© आरती परीख ३०.८.२०१७

रिश्ते-नाते

​बोझिल रिश्ते

सैलाब उमड़ता 

मन सागर

© आरती परीख २९.८.२०१७

~~

કપાઈ ગયો

સંબંધ ઘેલછામાં

મન પતંગ

© આરતી પરીખ ૨૯.૮.૨૦૧૭

પત્ર

પત્રમાં ગુંજે
કલમ નાદ તાલે
શબ્દ આરતી
© આરતી પરીખ ૨૯.૮.૨૦૧૭