Archive | June 2017

विरही

​भीगा बदन

बारिश की झडियाँ

सूखा मनवा

© आरती परीख ३०.६.२०१७

Advertisements

संध्याकाल

​भागता फिरे

बैठक क्षितिज पे

थका जो रवि

© आरती परीख ३०.६.२०१७

तृप्ति

​महके मिट्टी

रुह में झलकता 

प्रित का रंग

© आरती परीख ३०.६.२०१७

सूखा

रुई गुब्बारे

आसमान में छाए

किसानी डुब्बी

© आरती परीख ३०.६.२०१७

बर्षा ऋतु

​पौधों के संग

मधुर नग्में गाती

पावस हवा

© आरती परीख ३०.६.२०१७

तन्हाई

​ये तन्हाईयां

ले आई नजदीक

हमें हमसे

© आरती परीख ३०.६.२०१७

राम नाम सत्य है

एक सहारा

ढुंढते उम्रभर

मिल ही गए

एक क्या; चार कंधे

न रही जब सांसें

© आरती परीख २९.६.२०१७