Archive | May 29, 2017

परिश्रम

जब से आंखोंने ख्वाहिशों​को पनाह दी,

हमने प्रयत्नोंकी ऊंचाई थोड़ी बढ़ा दी!

© आरती परीख २९.५.२०१७