हाइकु माला

​पासवर्ड है

जियो और जीने दो

जी लो जिंदगी

~~~

संभाले हुए

पलकें बिछा कर

यादों के मोती

~~~

गिराती रही

बे-लगाम ज़ुबान

बोल का मोल

~~~

दाह लगाये

छज्जे पर नाचती

बैसाखी घूप

~~~

बैसाखी हवा

सहरा में सजाती

रेत रंगोली

~~~

तेज़ हवाएं

ढेर के ढेर हुए

रेत के टीले

~~~

संध्या जो ढली

चांद सितारों संग

निशा विचरे

~~~

गोधूलि बेला

दृश्य है अलबेला

जीवन ठेला

~~~

गोधूलि बेला

अंबर पे सजेगा

निशा का ठेला

~~~

शीतल धात्री

चांद सितारे यात्री

पुर्णिमा रात्री

~~~

रूठ के बैठे

चांद और सितारें 

मावस रात

~~~

ख़ाक हो जात

जुगनू थे तैनात

चमके रात

© आरती परीख २४.५.२०१७

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s