बहू/कुलवधु

रात या दिन

मनदिप जलाती

घरकी लक्ष्मी

~~~

बहू के पांव

बुजुर्गों की जबान

कभी न थके

~~~

घरआंगन 

कुमकुम कदम

खुशियां छाई

~~~

संस्कार दैन

कुलवधु के नैन

जीवन चैन

~~~

मीठें दो बोल

प्यार  संस्कार तोल

वधु का मोल

~~~

रण या वन

संस्कारी कुलवधु

हो उपवन

~~~

तूटी न जूडी

सास-बहूकी जोड़ी

रेल पटरी

~~~

दो परिवार

LOC* बन खडी

बहू ही छडी*
*छडी=धजा, लाठी
*LOC=Line of Control

~~~

कुल का मान

क्या अपना-पराया

बेटी या बहू

~~~

सिक्कों की भुख

केरोसिन उड़ेले

बहू के मुख

_आरती परीख १९.१.२०१७

 

 


 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s