शायराना …

मुस्कुराने के लिए बहाना ठूँठते है जो लोग,

अक्सर,

गमगीनी की आग़ोश में ही मिलेंगे वो लोग…

~~

गमगीनी में जींदगी गुज़ारना कदापि मंज़ूर नहीं,
मुस्कुराते हुए मौत को ललकारे; वो ग़ुरूर नहीं !!

~~

जब से हम अपने आप को ढूँढने लगे,
बिछड़े रिश्ते भी अपनी ओर मूँडने लगे।

_

आरती परीख १५.१०.२०१४

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s